Home न्यूज पीके ने सरकार से पूछा सवाल-12 हजार लोगों की नियुक्ति क्षमता वाली...

पीके ने सरकार से पूछा सवाल-12 हजार लोगों की नियुक्ति क्षमता वाली बीपीएसएससी 4 लाख शिक्षकों की परीक्षा कैसे लेगी?’

Neelkanth

वैशाली। अशोक वर्मा
जन सुराज पदयात्रा के दौरान वैशाली में एक सभा के दौरान प्रशांत किशोर ने नीतीश सरकार द्वारा शिक्षक बनने के लिए बीपीएससी परीक्षा पास करने के नए नियम पर सवाल उठाते हुए कहा कि बिहार के लोग इतना भी समझ नहीं पा रहे हैं कि सरकार जो बोल रही है वो सही बोल रही है या गलत। सरकार अभी सरकार बोल रही है कि 4 लाख शिक्षकों की परीक्षा बीपीएससी के द्वारा आयोजित कराई जाएगी, लेकिन नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव को ये पता भी है कि बीपीएससी ने बिहार में अभी तक जितनी भी परीक्षाएं करवाई हैं, या उनके परिणाम घोषित किए हैं उसका आंकलन करने पर देखा जा सकता है कि बीपीएससी की क्षमता साल में मात्र साढ़े 12 हजार अभ्यर्थियों के ही परीक्षा आयोजित करवा सकती है। सरकार यदि बोल रही है कि बीपीएससी परीक्षा लेगी तो उस परीक्षा का परिणाम कैसे घोषित होगा और उसका पेपर कौन जांच करेगा? मौजूदा समय में बीपीएससी के पास इतने संसाधन ही नहीं हैं। इन सब को देखकर समझा जा सकता है कि सरकार शिक्षकों की नौकरी को लेकर कितनी सक्रिय है।
’प्रशांत किशोर का राहुल गांधी पर तंज, बोले – मेरे लिए पदयात्रा समय निर्धारित कार्यक्रम नहीं है, कुछ लोगों ने तो 6 महीने में कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यात्रा पूरी कर ली’
जन सुराज पदयात्रा के दौरान वैशाली में एक सभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि मुझे पूरे बिहार में पदयात्रा करनी है, चाहे इस पदयात्रा को पूरा करने में 1 साल लगे या 2 साल। पदयात्रा की रूप रेखा तैयार करते समय हमारा अनुमान था कि एक जिले को 20 से 25 दिनों में पूरा कर लिया जाएगा, लेकिन आज एक जिलें में 50 से 60 दिन का समय लग रहा है। जन सुराज अभियान के तहत होने वाली इस पदयात्रा का मकसद कोई ऐसा आयोजन नहीं है कि जिसको एक निश्चित समय में पूरा किया जा सकता है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर चुटकी लेते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि कुछ लोगों ने तो देश में 6 महीने में कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यात्रा पूरी कर दी है, जबकि हम 6 महीने में चम्पारण से वैशाली तक ही यात्रा कर पाए हैं। हम को पदयात्रा ईमानदारी और शुद्धता से करनी है चाहे इसे सम्पूर्ण बिहार में करने में 1 साल लगे या 2 साल लग जाए।रू ’प्रशांत किशोर का लोकसभा चुनाव लड़ने पर बड़ा बयान, बोले – एमएलसी चुनाव की तरह ही अगर जनता चाहेगी तो सही उम्मीदवारों की मदद करेगा जन सुराज।
जन सुराज पदयात्रा के दौरान वैशाली में एक सभा को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि पदयात्रा पूरी होने के बाद जनता मिलकर तय करेगी कि दल बनेगा या नहीं। पदयात्रा के दौरान अभी हमारा कोई दल नहीं है लेकिन शिक्षकों ने आवाज उठाई कि हमारी मदद की जाए तो उन्होंने अपना प्रत्याशी चुना, जन सुराज ने उनकी मदद की और वहाँ वो चुनाव जीत गए। अभी वैशाली में पदयात्रा हो रही है तो वैशाली के लोग चाहते हैं कि चुनाव लड़ना है और ईमानदार प्रत्याशी खड़ा होता है तो जन सुराज उनकी भी मदद करेगा। लेकिन उसके लिए आपको खड़ा होना होगा, आपको मेहनत करनी पड़ेगी। दल बनाकर चुनाव लड़ने का कोई भी सवाल नहीं है जब तक पदयात्रा पूरी नहीं हो जाती है, ये दावा भी नहीं किया जा सकता है कि लोकसभा चुनाव से पहले पदयात्रा खत्म हो जाएगी।

Previous articleश्याम नंदन को भाजपा जिला मंत्री व कोठिया निवासी हरेंन्द्र सहनी के मनोनयन पर दी गई बधाई
Next articleजहरीली शराब से गंभीर रूप से बीमार लोगों से अस्पताल में मिले पूर्व केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह