Home न्यूज कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर 123वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर 123वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन

Neelkanth

बेतिया डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
भारत-नेपाल सीमा पर अवस्थित वाल्मीकिनगर बेलवा घाट परिसर में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर स्वरांजलि सेवा संस्थान के बैनर तले अभिनव पाठक, प्रियंका पाठक एवम् अर्चिस्मान द्वारा प्रायोजित 123 वीं नारायणी गंडकी महाआरती कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ सशस्त्र सीमा बल 21 वीं वाहिनी के कमांडेंट सह मुख्य अतिथि श्री प्रकाश, समाजसेवी अभिनव पाठक, प्रियंका पाठक, समाजसेवी संगीत आनंद, थरुहट के होम लाल प्रसाद, एसएसबी गंडक बैराज के इंस्पेक्टर पी. के. मंडल, सतेन्द्र सिंह, सुमन देवी, विजय झा ,कलाकार शिवचंद्र शर्मा,यूट्यूबर लक्ष्मी थारू , जिम्री नौतनवा के मुखिया खूबलाल बडगढिया, एवम् शिक्षिका आशा देवी, ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्वलित करके किया। मुख्य अतिथि श्री प्रकाश ने कहा कि हमारी सभ्यता और संस्कृति नदियों के किनारे ही विकसित हुई है। हमें प्राकृतिक धरोहरों की रक्षा करने का संकल्प लेना चाहिए। प्रायोजक अभिनव पाठक ने कहा कि कार्तिक पूर्णिमा को देव दिवाली भी कहते हैं। प्रियंका पाठक ने सास ससुर और माता-पिता की सेवा को सच्ची ईश्वर की सेवा बताया। गंडक नदी के तट पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु कार्तिक पूर्णिमा की महाआरती में शामिल हुए। विशिष्ट कार्य हेतु कमांडेंट श्री प्रकाश, इंस्पेक्टर पी.के मंडल, थरुहट की सर्वप्रथम ऊंची शिक्षा ग्रहण करने वाली शिक्षिका आशा देवी, समाजसेवी अभिनव पाठक, प्रियंका पाठक, आचार्य पंडित सोनू तिवारी, पंडित आदर्श तिवारी, पंडित अंकुर तिवारी, पंडित सत्यम गोस्वामी, गोस्वामी मुन्ना गिरी शिव मंदिर इटहिया,सहित गुरु गोरखनाथ पीठ गोरखपुर से आए कर्मकांड के विशेषज्ञ विद्वानों को नारायणी गंडकी सम्मान से सम्मानित किया गया। समाजसेवी संगीत आनंद ने बताया कि 6 नवंबर 2014 कार्तिक पूर्णिमा से ही नारायणी गंडकी महाआरती की शुरुआत वाल्मीकि नगर में की गई थी। संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्षा अंजू देवी ने कहा कि अभिनव पाठक द्वारा दरिद्र नारायण भोज में भी विशेष सहयोग प्रदान किया गया है। आगे अभिनव पाठक ने बताया कि स्वरांजलि सेवा संस्थान को जब-जब सामाजिक और धार्मिक कार्यों में हमारी जरूरत महसूस होगी मेरा इसमें भरपूर सहयोग मिलेगा । कमांडेंट श्री प्रकाश ने इस महा आरती को और भव्यता प्रदान करने की बात कही । श्री प्रकाश ने कहा कि इस घाट पर लाइटिंग और मंच की व्यवस्था जरूरी है। बेलवा घाट को और भी सुंदर बनाने के लिए वह उच्च अधिकारियों से भी बात करेंगे। थरुहट के समाजसेवी होमलाल प्रसाद ने कहा कि स्वरांजलि सेवा संस्थान द्वारा 14 नवंबर 2012 से लावारिस दिव्यांग जनों और जरूरतमंदों को हर दिन सुबह शाम घूम घूमकर दैनिक चलंत दरिद्र नारायण भोज के माध्यम से भोजन प्रदान किया जाता है। मुझे लगता है भूखे को भोजन देना सबसे बड़ा पुण्य का काम है। अतिथियों द्वारा संस्था के उत्कृष्ट सामाजिक और आध्यात्मिक कार्यों की भूरि भूरि प्रशंसा की गई। इस मौके पर गायिका हिरवंती देवी, गायक राजा कुमार, हिरमति देवी, मधु देवी,तूफानी ठाकुर,साहेब कुमार, चंदन कुमार,नागेंद्र कुमार , ब्यूटीशियन ज्योति कुमारी, कुमारी संगीता,एवम् पंडित अनिरूद्ध द्विवेदी की भूमिका सराहनीय रही। मंच संचालन संगीत आनंद ने किया जबकि धन्यवाद ज्ञापन अभिनव पाठक ने किया। कार्यक्रम के दौरान संस्था के उत्कृष्ट सामाजिक और धार्मिक कार्यों को निरंतर सहयोग प्रदान करने के लिए एस .के सुपरमार्ट रघुनाथपुर पूर्वी चम्पारण ,अभिनेता संजय कुमार कुशवाहा, शाकाहार को बढ़ावा देने वाले पवन भट्टराई,धर्मपाल गुरु वशिष्ठ जी महाराज, सप्त चंडी ट्रस्ट के बालकदास बाबा,, वशिष्ठ डेयरी उद्योग नेपाल, वर्ल्ड मीडिया विजन नई दिल्ली के राजेश गुप्ता, नवरत्न प्रसाद,जगदीश प्रसाद ,राव एमआरआई सेंटर गोरखपुर ,डॉ. के. एम राव, श्रवण कुमार श्रीवास्तव,सेलेस्टियाल इंटरनेशनल स्कूल वाल्मीकि नगर, एवम् फौजी विद्यासागर राणा की प्रशंसा करते हुए ऐसे सहयोगी जनों के प्रति आभार प्रकट किया गया। दूधिया रोशनी में नारायणी गंडकी महा आरती संपन्न हुई । गोरखनाथ पीठ से आए पंडितों ने समवेत स्वर में वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ कार्यक्रम की सार्थकता को सिद्ध किया।
कथा पूजा और हवन द्वारा क्षेत्र की समृद्धि और खुशहाली की कामना की गई ।अंत में समाजसेवी संगीत आनंद ने कहा कि वर्ष 2008 में 26 नवंबर को जो आतंकी हमला मुंबई में किया गया था वैसी घटना की पुनरावृति अब कभी न हो, हम नारायणी माता से यही प्रार्थना करते हैं। शांति मंत्र के साथ कार्यक्रम को विराम दिया गया।

Previous articleश्रम विभाग ने लगाया एक माह का कैंप, दी जा रही यह जानकारी
Next articleअभिनेत्री अक्षरा सिंह ने थामा जन सुराज का दामन, कही यह बात