Home न्यूज नयी शिक्षक नियमावली के विरोध में शिक्षकों ने निकाला प्रतिरोध मार्च, सरकार...

नयी शिक्षक नियमावली के विरोध में शिक्षकों ने निकाला प्रतिरोध मार्च, सरकार पर लगाया यह आरोप

Neelkanth

मोतिहारी। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
नयी शिक्षक नियमावली के विरोध में बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के राज्यव्यापी आह्वान पर सोमवार को जिले के शिक्षकों ने प्रतिरोध मार्च निकाला। कार्यक्रम का नेतृत्व संघ के जिलाध्यक्ष सुनील कुमार राय कर रहे थे। यह मार्च बंगला मध्यविद्यालय से होकर कचहरी चौक पहुंच सभा में तब्दील हो गई। इस दौरान शिक्षकों को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष श्रीराय ने कहा की बिहार राज्य विद्यालय अध्यापक नियमावली 2023 में पंचायती राज एवं नगर निकाय अंतर्गत नियोजित शिक्षकों को समायोजित नहीं किया जाना राज्य सरकार की दोहरी नीति का परिचायक है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार लगातार नियोजित शिक्षकों के साथ धोखा करती चली आ रही है।

वहीं जिला वरीय उपाध्यक्ष राकेश कुमार तिवारी ने कहा कि महागठबंधन की चुनावी 2020 का घोषणा पत्र में नियोजित शिक्षकों को समान काम का समान वेतन देने, राज्यकर्मी का दर्जा एवं पुरानी पेंशन लागू करने की वादे किए गये। परंतु महागठबंधन सरकार में ही अध्यापक नई नियमावली 2023 आने पर नियोजित शिक्षकों की सेवा को सीधे तौर पर समायोजन करने की नीति तैयार नहीं की गई। जिससे नियोजित शिक्षकों में सरकार के विरुद्ध आक्रोश व्याप्त है। साथ ही मजदूर दिवस पर शिक्षक आंदोलन करने को विवश है।

जिला उपाध्यक्ष प्रकाशचंद्र ने कहा कि अध्यापक नई नियमावली 2023 में नियोजित प्रारंभिक ,माध्यमिक, उच्चतर माध्यमिक शिक्षक, पुस्तकालय अध्यक्ष को समायोजित कर राज्यकर्मी का दर्जा देने एवं पुरानी पेंशन लागू करने ,एच्छिक स्थानांतरण, वरीयता,प्रोन्नति, सेवा निरंतरता की प्रमुख मांगों की पूर्ति को लेकर सरकार के शिक्षा एवं शिक्षक विरोधी नीतियां का पुरजोर विरोध जारी रहेगा। जिसकी खामियाजा सरकार को भुगतनी पड़ेगी। वहीं जिला कोषाध्यक्ष शत्रुघ्न कुमार ने कहा कि सरकार हमारी मांगे पूरी नहीं की तो सड़क से सदन तक आंदोलन होगा। अन्य वक्ताओं में अनिल कुमार यादव, ब्रजकिशोर प्रसाद, अरुण कुमार मिश्रा, पामोद यादव, राजमंगल यादव, कुमारी पूनम, शोभा शर्मा, रीता देवी, प्रकाशचंद्र, शत्रुघ्न कुमार आदि शामिल थे। मौके पर राजन द्विवेदी, शशिभूषण कुमार, वसंत कुमार, विरेंद्र कुमार, राजकिशोर राम, रामू कुमार, रिंकू कुमारी, सुधा कुमारी, प्रमिला देवी, ज्ञांति देवी, अनिता कुमारी, गीता कुमारी, विनिता कुमारी, जयंत कुमार आर्य, रागिब इकबाल, आमोद कुमार सिंह, सुनील कुमार पप्पू, कन्हैयालाल बैठा, शशिशेखर कुमार, मनोज यादव, उपेंद्र दुबे, कृष्णा कुमार सिंह, मालिक पासवान, सुरेश प्रसाद, सुमन कुमार, सुनील कुमार यादव समेत सैकड़ों शिक्षक मौजूद थे।

 

Previous articleमोतिहारी में भीड़ ने पुलिस टीम पर किया हमला, तीन सिपाही जख्मी, यह है मामला
Next articleभाजपा जिला अल्पसंख्यक मोर्चा की बैठक, संगठन के विस्तार पर हुई चर्चा