Home न्यूज हर्षाेल्लास के साथ मनाई गई बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की 132 वीं...

हर्षाेल्लास के साथ मनाई गई बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की 132 वीं जयंती

Neelkanth

छौड़ादानो। अशोक वर्मा
प्रकाश विद्यानिकेतन पब्लिक स्कूल में भारतीय संविधान निर्माता दलितों के मसीहा बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की 132 वीं जयंती समारोह हर्षाेल्लास के साथ मनाई गई। कार्यक्रम का उद्घाटन दलित साहित्य अकादमी के प्रदेश अध्यक्ष जागाराम शास्त्री , डॉ प्रदीप श्रीवास्तव प्राचार्य, डॉक्टर धनेश्वर दुबे पूर्व प्राचार्य के साथ अन्य शिक्षाविद साहित्यकार एवं पत्रकारों ने दीप प्रज्वलित कर किया। उद्घाटन करता प्रदेश अध्यक्ष जागाराम शास्त्री ने कहा कि एक हजार वर्ष की गुलामी के बाद स्वतंत्र भारत को सुव्यवस्थित ढंग से चलाने के लिए तथा सभी के हितों को ध्यान में रखते हुए बाबा साहब ने ऐसा संविधान दिया जिसका मिसाल विश्व में कहीं नहीं है। बाबासाहेब ने उपेक्षित वर्ग को ध्यान में रखते हुए संविधान की रचना की और उन्होंने जोर देकर कहा कि शिक्षित बनो संगठित हो और संघर्ष करो । दरअसल बाबासाहब जिस वर्ग से आते थे उस वर्ग के अंदर व्याप्त गरीबी, पिछड़ेपन एवं समाज के स्वार्थी वर्ग के उत्पीड़न आदि को काफी करीब से देखा था। वे अति संवेदनशील थे ,वे चाहते थे कि गरीबों का कल्याण हो शिक्षा एवं बाबासाहेब के मार्ग पर चलकर सभी संपन्न बने ।दलित वर्ग के संपन्न लोगों के ऊपर बाबासाहेब के परिकल्पना का समाज बनाने की जिम्मेवारी आज आ गई है, खासकर के दलित वर्ग के जो लोग अभी पीछड़ गए हैं उनको भी विकास की गति से जोडने की जिम्मेवारी आ गई है। इसका निर्वाहन हमें करना है । प्राचार्य राजेश कुमार ने कहा कि बाबा साहब ने शिक्षा पर अधिक बल दिया था ।

 

बाबासाहेब दलित वर्ग के पिछड़ने के कारण का मुख्य कारण नशाखोरी और अशिक्षा को माना था वह नशा के सख्त विरोधी थे, चाहते थे कि दलित वर्ग के लोग नशा से दूर रहे। कई वक्ताओं ने कहा कि आजादी के बाद पूंजीवाद के पक्षधर राजनयिकों ने बाबा साहब को तो खूब माना, बाबा साहब को खूब भुनाया लेकिन एक साजिश के तहत दलित और उपेक्षित वर्ग को पिछड़ा ही रखा । सुनील राम ने कहा कि नई पीढ़ी के लोगों को दलितों को संविधान में मिले अधिकार दिलाने की जिम्मेदारी है।कार्यक्रम में गगन देव प्रसाद यादव, डॉ सुरेंद्र कुमार, बैजनाथ पासवान, पूनम जयसवाल , उमा देवी, निर्मला श्रीवास्तव, विनोद प्रसाद, देवकी राम, रामप्रवेश कुमार ,सुनील सिंह कुशवाहा ,गगन देव बैठा ,रंजीत कुमार राम प्राचार्य राजेश कुमार आदि थे

Previous articleबेखौफ बदमाशों ने दिनदहाड़े हथियार के बल पर नकदी व मोबाइल लूटे, इस जगह की घटना
Next articleभाजपा ने आयोजित की अंबेडकर जयंती, लालबाबू सिंह ने सांसद डॉक्टर संजय जायसवाल को चादर भेंटकर किया स्वागत