Home न्यूज काहे की शराबबंदी नीतीश बाबू, बिहार में तो महाराष्ट्र व गोवा से...

काहे की शराबबंदी नीतीश बाबू, बिहार में तो महाराष्ट्र व गोवा से ज्यादा लोग पी रहे शराब

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
काहे की शराबबंदी नीतीश बाबू। ड्राई स्टेट होने के बावजूद अब भी महाराष्ट्र व गोवा से ज्यादा यहां के लोग शराब पी रहे हैं। जी हां, यह हम नहीं एक सर्वे से तो यहीं बात साबित हो रही है। ऐसे समय में जब विपक्षी दल के नेता इसकी समीक्षा की बात कर रहे हैं, ऐसे समय में यह सर्वे इन नेताओं की बातों की पुष्टि कर रहे हैं। बता दें कि बिहार में 2016 के दौरान जब नीतीश कुमार की लगातार तीसरी बार सरकार बनी तो उन्होंने राज्य के सबसे बड़े मुद्दे की नब्ज पकड़ी और शराबबंदी लागू कर दी।

लेकिन बिहार की शराबबंदी से जुड़ा एक ऐसा आंकड़ा सामने आया है, जो नीतीश सरकार के होश उड़ा सकता है। दरअसल, ड्राई स्टेट घोषित होने के बावजूद बिहार के लोग महाराष्ट्र से ज्यादा शराब का सेवन कर रहे हैं। यह खुलासा राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2019-20 के दौरान हुआ।
इस सर्वे में बताया गया है कि बिहार की पुरुष जनता में से करीब 15.5 प्रतिशत लोग शराब का सेवन कर रहे हैं। इनमें 15 साल और उससे ज्यादा उम्र के लोग शामिल हैं। सर्वे में यह बात भी सामने आई है कि बिहार के देहाती इलाकों में शहरी इलाकों के मुकाबले शराब की खपत ज्यादा है। दरअसल, बिहार के शहरी इलाकों में 14 प्रतिशत लोग शराब पी रहे हैं, जबकि ग्रामीण इलाकों में यह आंकड़ा 15.8 प्रतिशत का है। बिहार में शराब पीने के आंकड़े इस वजह से गौर करने वाले हैं, क्योंकि राज्य में अप्रैल 2016 से पूर्णतय शराबबंदी लागू है।

सर्वे में पता चला है कि पुरुषों द्वारा शराब पीने के मामले में बिहार के बाद दूसरे नंबर पर महाराष्ट्र है। महाराष्ट्र में 13.9 प्रतिशत पुरुष आबादी शराब पीती है, जिनमें 15 साल और उससे ज्यादा उम्र के लोग शामिल हैं।

अगर महिलाओं के शराब पीने की बात करें तो महाराष्ट्र और बिहार के आंकड़े एक जैसे हैं। हालांकि, ग्रामीण और शहरी इलाकों में शराब की खपत पर गौर करें तो महाराष्ट्र के शहरी इलाकों में बिहार के शहरी इलाकों के मुकाबले महिलाओं द्वारा शराब की खपत कम है। बिहार के शहरी इलाकों में 0.5 प्रतिशत महिलाएं शराब पीती हैं, जबकि महाराष्ट्र में यह आंकड़ा 0.3 प्रतिशत है।

अगर पूरी आबादी के हिसाब से शराब की खपत देखें तो तेलंगाना पहले पायदान पर है। यहां कुल आबादी में से 43.3 प्रतिशत लोग शराब पीते हैं। रोचक तथ्य यह है कि पार्टियों के लिए मशहूर गोवा इस मामले में पीछे है। यहां सिर्फ 36.9 प्रतिशत लोग ही शराब का सेवन करते हैं। गुजरात और जम्मू-कश्मीर में शराब पीने वालों का आंकड़ा काफी कम है। यहां क्रमशरू 5.8 और 8.8 प्रतिशत लोग शराब का सेवन करते हैं।

वहीं, तंबाकू सेवन पर गौर फरमाएं तो पहले नंबर पर मिजोरम का नाम आता है। यहां 77.8 प्रतिशत पुरुष और 62 प्रतिशत महिलाएं तंबाकू का सेवन करते हैं। वहीं, पुरुषों द्वारा तंबाकू की सबसे कम खपत केरल और गोवा में है। यहां क्रमशरू 17 और 18 प्रतिशत पुरुष ही तंबाकू खाते हैं। हालांकि, महिलाओं द्वारा तंबाकू का सेवन हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा कम है। गौरतलब है कि यह सर्वे पूरे देश 6.1 लाख लोगों पर किया गया था।

Previous articleभारत-बांग्लादेश के बीच सात समझौतों पर मुहर, सीमापार चिलाहाटी-हल्दीबाड़ी तक रेल संपर्क किया गया बहाल, हुए ये समझौते
Next articleदिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुला सीएम केजरीवाल ने नए कृषि कानूनों की प्रतियां फाड़ी, किसानों को बता रहे शहीद भगत सिंह का अवतार