Home न्यूज खुदानगर में चल रहे अवैध बूचड़खाने पर प्रशासनिक उदासीनता पर विहिप ने...

खुदानगर में चल रहे अवैध बूचड़खाने पर प्रशासनिक उदासीनता पर विहिप ने जताया आक्रोश, बेमियादी अनशन को चेताया

मोतिहारी। अशोक वर्मा
विश्व हिन्दू परिषद् बजरंगदल ने खुदानगर मे चल रहे अवैध बूचडखाना और गो हत्या बन्द कराने को लेकर बेमियादी अनशन की तैयारी शुरू कर दी है। परिषद के बिहार झारखंड के क्षेत्र समपर्क प्रमुख अधिवकता अशोक श्रीवास्तव ने प्रेस को बताया कि विहिप द्वारा अवैध बूचडखाना बन्द कराने के लिए अनेक कार्यक्रम किया गया, परन्तु जिलाधिकारी महोदय और नगर परिषद का आदेश सिर्फ कागज तक ही सिमटकर रह गया है।

22 जुलाई 19 को गांधी चैक पर विहिप का धरना, 14 सितम्बर को जिलाधिकारी के समक्ष प्रदर्शन, जिला अधिकारी, नगर परिषद को मांग पत्र आदि के माध्यम से आंदोलन चलाया गया। सभी अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि बूचडखाना को हटाया जाएगा, नोटिस भेजा जा रहा है। 11 कसाईयो को नोटिस भी भेजा गया। जिलाधिकारी महोदय ने नोटिस के आधार पर बूचडखाना पर क्या कार्रवाई हुईं इस आलोक मे नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी से स्पस्टीकरण मांगा और वेतन पर रोक भी लगाई, लेकिन अभी तक कोई ठोस कारवाई नही होने पर धडल्ले से बूचडखाना और गौ हत्या का कारोबार चल रहा है।

यंहा तक कि सामाजिक कार्यकर्ता नासिर खान हुसेन द्वारा गो हत्या और बूचडखाना बन्द कराने के लिए आवाज उठाने पर जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है प्रशासन को उनके द्वारा आवेदन देने पर प्रशासन लापरवाह बनी हुई है। पहले विहिप को कहा जाता था कि गो हत्या और बूचडखाना बन्द कराने के लिए विहिप द्वारा दंगा भड़काने का प्रयास किया जा रहा है। मै पूछता हूं उनलोगो से जो दंगा की नियत से गौ हत्या और बूचडखाना बन्द कराने के लिए देखते हैं, नासिर खान हुसेन कौन है? एक मुसलमान होते हुए भी गौ हत्या और बूचडखाना बन्द कराने के लिए आवाज उठाने के पहल का विहिप स्वागत करता है और पुनः जिलाधिकारी से मांग करते है कि अविलंब गौ हत्या और बूचडखाना बन्द किया जाए, अन्यथा विहिप दिसंबर के अंतिम सप्ताह से गौ हत्या और बूचडखाना बन्द कराने के लिए के लिए अनिश्चित कालिन बेमियादली अनशन नगर परिषद कार्यालय मे शूरू करेगी और इस अनशन पर नासिर खान हुसेन जैसे राष्ट्रवादी मुस्लिम भी होगे। इस गौ हत्या और बूचडखाना के कारण धार्मिक आर्थिक क्षति के साथ साथ पर्यावरण क्षति भी हो रहा है। गोवध के बाद निकले खून नालांे से लोगों के घरों तक पहंुच रहा है।

Previous articleदिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुला सीएम केजरीवाल ने नए कृषि कानूनों की प्रतियां फाड़ी, किसानों को बता रहे शहीद भगत सिंह का अवतार
Next articleसरकारी उदासीनता से आजिज प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन’ ने आंदोलन तेज करने का लिया निर्णय, 21 दिसम्बर को एक दिनी भूख हड़ताल