Home न्यूज खुदानगर में चल रहे अवैध बूचड़खाने को बंद कराने को विहिप व...

खुदानगर में चल रहे अवैध बूचड़खाने को बंद कराने को विहिप व बजरंग दल ने किया यह एलान, प्रशासन को चेताया

मोतिहारी। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
शहर की अति घनी आबादी खुदानगर के बीचों-बीच वर्षों से चल रहे अवैध बूचड़खाने को बंद कराने के लिए लंबे समय से विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के नेतृत्व में आन्दोलन चलाया जा रहा है।

आंदोलन अब नये मोड़ की ओर चल पडा है। खोदानगर मोहल्ले के निवासी नासिर खान ने एक स्वयंसेवी संगठन चंपारण स्वच्छता अभियान बनाकर इस आंदोलन को गति और शक्ति देने का काम किया है। उनके द्वारा धरना-प्रदर्शन लगातार किया जा रहा है और उनके सहयोगी के रुप में विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल जुड़ चुका है। कुछ दिनों पहले नासिर खां के नेतृत्व में नगर के चरखा पार्क पर धरना का कार्यक्रम चलाया गया और जिला प्रशासन से आग्रह किया गया कि 10 -12 वर्षों से गैर लाइसेंसी अवैध रूप से बूचड़खाने का संचालन हो रहा है। बन्द करने के लिये नगर परिसद प्रशासन द्वारा नोटिस भी किया गया है, लेकिन अब तक उस बूचड़खाने को चलाने वाले उसे बंद नहीं किया। धरना के द्वारा प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया गया और उन्हें चेतावनी दी गई कि इसे 72 घंटा के अंदर बंद कराया जाए, वरना एक बड़ा आंदोलन खड़ा हो जाएगा और आंदोलन का स्वरूप क्या होगा यह परिस्थिति पर निर्भर करता है । अगर कोई बात होती है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

नासिर खान ने बताया था कि भारतीय संविधान में मिले अधिकार के तहत हम लोग उस अवैध बूचड़खाने को बंद कराने के लिए आन्दोलन चला रहे है। बूचड़खाने के कारण शहर में प्रदूषण तेजी से फैल रहा है और कोरोना वायरस में साफ-सफाई पर खास ध्यान दिया जा रहा है। उस अवैध बूचड़खाने से निकलने वाले गंदगी , खून नाले से होकर मोतीझील में गिर रहे हैं तथा मोहल्ले मे चारों ओर फैल रहे हैं, जिस कारण महामारी फैलने का अंदेशा है, इसलिए इन सब बातों का ध्यान रखते हुए उस बूचड़खाने को जल्द से जल्द बंद किया जाए । नासिर खान के समर्थन में कई मुसलमान युवक भी आगे आए हैं। प्रशासन द्वारा बन्द कराने का आश्वासन मिला था, लेकिन जब प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई तो मंगलवार को नगर के गांधी चैक पर एक विशाल धरना अनशन का आयोजन किया गया।

नासिर खान ने उसे संबोधित किया और अपनी पुरानी मांगो को दोहराया। शहर के लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए उन्होने बूचड़खने को बंद करने की मांग की। बिहार और झारखंड के प्रभारी अशोक श्रीवास्तव अधिवक्ता ने अपने संबोधन में जिला प्रशासन को कहा कि आपके द्वारा घनी मुस्लिम आबादी के बीचो बीच अवस्थित बचाड़खाने को बंद नहीं किया जाता है विश्व हिंदू परिषद के हजारों कार्यकर्ता अपने पारंपरिक दल बल के साथ स्वयं उस बूचड़खाने पर हमला करेंगे और उसे बंद करंेगे, चाहे इसका अंजाम जो भी हो। अधिवक्ता सुबोध कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि भाजपा की सरकार केंद्र में भी है और बिहार में भी प्रमुख रूप से है, लेकिन पता नहीं प्रशासन के लोग इन लोगों से डर क्यौ रहे हैं? अभी कोई तुष्टिकरण की नीति भी नहीं है। सभी भारतीय हैं, चाहे हिंदू हो चाहे मुसलमान हो, जब गाय का दूध सभी पीते है तो उस दृष्टिकोण से गाय का संरक्षण संवर्धन करना सबकी जिम्मेदारी बनती है । सरकार और सरकार के प्रशासनिक लोग नजरअंदाज करते जा रहे हैं जो कभी भी खतरनाक हो सकता है। इन लोगों ने चेतावनी दी कि उस अवैध बूचड़खाने को अविलंब बंद किया जाए । आदापुर थाना क्षेत्र के पन्नालाल और अन्य लोगों ने अपने संबोधन में जिला प्रशासन को चेतावनी दी कि यह मामूली बात नहीं है और इसे हल्का-फुल्का ना लिया जाए। हम लोग हर बात की जानकारी प्रशासन को देते आ रहे ह,ैं अगर प्रशासन अनदेखा करेगी तो फिर हम लोग कोई भी रास्ता अख्तियार करने के लिए स्वतंत्र हैं।

Previous articleपिपरा को नगर पंचायत का दर्जा दिलाने को छिड़ी मुहिम, सरकार से शीघ्र पहल की मांग, नहीं तो आंदोलन को चेताया
Next articleडीएम शीर्षत कपिल अशोक व अन्य आईएएस अधिकारियों ने समाहरणालय परिसर में लगाये चंपा के पौधे