Home न्यूज पीपराकोठी में हुआ पशु चिकित्सा शिविर का आयोजन, पशुओं का इलाज व...

पीपराकोठी में हुआ पशु चिकित्सा शिविर का आयोजन, पशुओं का इलाज व निशुल्क दवा वितरित

पीपराकोठी। राजेश कुमार सिंह
सलेमपुर पंचायत के सलेमपुर गांव में एम्बुलेट्री पशु चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में दूर दराज से आए पशुओं का निःशुल्क इलाज कर दवा का वितरण किया गया। पशु चिकित्सा पदाधिकारी डॉ.रेशु कुमार ने बताया कि शिविर में 49 पशुपालकों के 126 पशुओं का इलाज किया गया। वहीं मौसम आधारित दवा निःशुल्क वितरित किया गया।

शिविर में मुख्य रूप से कृमिनाशक दवा, गैस कब्जियत, भूख की दवा व एंटीसेप्टिक क्रीम सहित अन्य दवाओं का वितरण हुआ। वहीं पशुपालकों को बताया कि सर्दियों में पशु को बीमारियों से बचाने के लिए पशुओं को कम से कम 25 प्रतिशत हरा चारा व 75 प्रतिशत बढ़िया सूखा चारा खिलाना चाहिए। शाम के समय ठंडक बढ़ने से पूर्व पशु को अंदर बांधें। सुबह धूप निकलने पर बाहर निकालें। ताजा व स्वच्छ पानी पिलाएं। पशु को सप्ताह में दो बार गुड़ जरूर खिलाएं। बिनौला, खल व खनिज मिश्रण दें। सेंधा नमक खिलाएं ताकि पशु की पाचन शक्ति बनी रहे। पशु के नीचे साफ-सफाई व सूखा बरकरार रखें। बीमारी का अंदेशा होने पर तुरंत चिकित्सक के परामर्श अनुसार उपचार दिलाएं।
बताया कि ठंड बढ़ाने के साथ-साथ पशुओं में खुरहा, मुंह पका रोग, गलाघोंटू, लंगडी, भेड़, चेचक आदि रोगों के होने की संभावना प्रबल रहती है। इसलिए पशुपालकों को इन बीमारियों के टीके लगवा लेना चाहिए। साथ ही उचित कृमि नाशक दवाओं का उपयोग हर तीन महीने पर अवश्य करना चाहिए। खासकर इस मौसम में बछड़ों में निमोनिया और खासी संबंधित रोग होने की स्थिति में पशु चिकित्सक से यथाशीघ्र परामर्श लेकर उचित औषधि पशुओं को देना चाहिए। दुधारू पशुओं के थनैला रोग से बचाने के लिए पूरा दूध निकाले और दूध धोने के बाद थानों को कीटाणुनाशक घोल से धो लेना चाहिए।

 

Previous articleअब निकल सकेगी बैंड-बाजे संग शादियों में बरात, 150 लोगों के शामिल होने की अनुमति, विरोध के बाद सरकार ने बदला नियम
Next articleकेविके की नई पहल, अब रजनीगन्धा की खुशबू से गुलजार होगी चम्पारण की फिजां