Home न्यूज मार्च 2022 तक शुरू हो जाएगा महात्मा गांधी सेतु के दोनों लेन...

मार्च 2022 तक शुरू हो जाएगा महात्मा गांधी सेतु के दोनों लेन पर आवागमन, समानांतर बनने वाले पुल पर भी निर्माण जल्द

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
उत्तर और दक्षिण बिहार को जोड़ने वाले महात्मा गांधी सेतु के दोनों लेन मार्च 2022 तक चालू हो जाएंगे। जबकि गांधी सेतु के समानांतर बनने वाले चार लेन के नए पुल का निर्माण भी जल्द ही शुरू होगा। नेशनल हाईवे की परियोजनाओं की समीक्षा के क्रम में पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने इन परियोजनाओं को लेकर आवश्यक निर्देश दिए।

समीक्षा बैठक में मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी सेतु के एक लेन से अभी परिचालन शुरू है। दूसरे लेन को तोड़ने का काम शुरू किया जा चुका है। दूसरे लेन यानी पूर्वी छोर के जीर्णोद्धार का काम मार्च 2022 तक पूरा कर दोनों लेन को चालू कर दिया जाएगा। मंत्री ने कहा कि सरकार ने गांधी सेतु के समानांतर चार लेन का नया पुल बनाने का निर्णय लिया है। इसकी निविदा की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इस नए पुल का निर्माण भी जल्द शुरू किया जाए। बैठक में पीएम पैकेज के अधीन राज्य की सड़क निर्माण की परियोजनाओं की भी समीक्षा की गई।

फुलौत और भागलपुर में पुल निर्माण जल्द शुरू होगा
राष्ट्रीय उच्च पथ 106 में कोसी नदी पर फुलौत में स्वीकृत पुल और भागलपुर में बिक्रमशिला पुल के सामानांतर गंगा नदी पर स्वीकृत नए पुल का निर्माण भी जल्द ही शुरू करने का निर्देश दिया गया। इन दोनों पुलों की निविदा प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। केवल कार्यारम्भ ही करना है। एनएच 104 और 106 में चल रहे निर्माण कार्य में तेजी लाकर जल्द पूरा करने को कहा। सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से स्वीकृत सभी 15 आरओबी के निर्माण कार्य में आ रही अड़चनों को रेलवे के साथ समन्वय स्थापित करते हुए दूर करने एवं योजनाओं को समय सीमा के अधीन पूर्ण करने को कहा गया। साथ ही केंद्र की ओर से बिहार को सौंपी गई सड़कों को हर हाल में अच्छी स्थिति में रखने और राष्ट्रीय उच्च पथों के रख-रखाव एवं विकास हेतु दीर्घ कालीन योजना के निर्माण का निर्देश दिया।

पीएम पैकेज की 12 योजनाएं पूरी
समीक्षा बैठक में प्रधानमंत्री पैकेज के अधीन राज्य की सड़क निर्माण की परियोजनाओं की समीक्षा की गई। कुल 51 योजनाओं में 24 हजार 500 करोड़ से काम चल रहा है। इसके तहत 1224 करोड़ की 12 योजनाओं का कार्य पूर्ण कराया जा चुका है। 4 बड़े पुलों का निर्माण प्रधानमंत्री पैकेज के तहत हो रहा है जिसमें दो पुल पटना में गंगा नदी पर, एक भागलपुर में तो चैथा पुल फुलौत में कोसी नदी पर बनना है। वर्तमान में 718 किमी की लम्बाई में 4278 करोड़ की लागत से चैड़ीकरण किया जा रहा है। साथ ही 1060 करोड़ की लागत से 15 आरओबी के निर्माण की स्वीकृति प्राप्त है, जिसमें 13 आरओबी का निर्माण प्रगति में है। लगभग 500 किमी में मजबूतीकरण का कार्य प्रगति में है। समीक्षा बैठक में पथ निर्माण के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा, विशेष सचिव दिवेश सेहरा,अभियंता प्रमुख उमेश कुमार, मुख्य अभियंता अमरनाथ पाठक और अनिल कुमार सिन्हा, मंत्रालय के क्षेत्रीय अधिकारी पीके लाल सहित अन्य अभियंता मौजूद थे।

 

Previous articleभारत बंदः बंदी किसान संगठनों का, सफल बनाने को सड़कों पर उतरा विपक्ष, बंद समर्थकों ने ट्रेनों को रोकना किया शुरू, मुजफ्फरपुर में उग्र प्रदर्शन
Next articleबिहारः विश्विद्यालयों की लेटलटीफी पर राजभवन सख्त, पूर्व की सभी लंबित परीक्षाएं मौजूदा सत्र में ही लेने का आदेश