Home न्यूज राजद नेताओं का जदयू पर प्रहार जारी, अब पार्टी प्रवक्ता ने किया...

राजद नेताओं का जदयू पर प्रहार जारी, अब पार्टी प्रवक्ता ने किया बड़ा दावा- जदयू में टूट तय, बचा सको तो बचा लो

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
बिहार में राजद व जदयू के बीच सियासी संग्राम जारी है। राजद के कई नेता बयानवीर बने हुए हैं। वे जदयू में टूट को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं, हालांकि जदयू बार-बार इन दावों को खारिज कर रही है। पहले श्याम रजक व उदय नारायण चैधरी में होड़ मची रही। अब राजद प्रवक्ता भी सामने कूद पड़े हैं। उन्होंने साफ कह दिया है कि जदयू में टूट तय है, अगर विधायकों को बचा सकते हो तो बचा लो।

इस बार राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने पार्टी के सहयोगी और पूर्व मंत्री श्याम रजक के बयान से आगे बढ़ते हुए न्यूज चैनल आजतक से बातचीत में कहा कि जेडीयू में टूट होना तय है और पार्टी के विधायक जल्द ही पार्टी छोड़कर राजद में शामिल होंगे। तिवारी ने चुनौती देते हुए कहा कि जदयू में टूट होना तय है, पार्टी अपने विधायकों को बचा सकती है तो बचा ले।

आपको बता दें कि बीते दिनों आरजेडी नेता और पूर्व मंत्री श्याम रजक ने भी दावा किया था कि जदयू के 17 विधायक उनके संपर्क में हैं और वे कभी भी राजद ज्वाइन कर सकते हैं। श्याम रजक ने दावा किया था कि बीजेपी की कार्यशैली से नाराज जेडीयू के विधायक बिहार की एनडीए सरकार को गिराना चाहते हैं।

श्याम रजक ने भी न्यूज चैनल आजतक से बातचीत में दावा किया था कि भाजपा की कार्यशैली से नाराज जदयू के 17 विधायकों को दल-बदल कानून के अंतर्गत सदस्यता रद्द होने के खतरे से बचाने के लिए फिलहाल रोककर रखा गया है। उन्होंने कहा कि उन सभी विधायकों को कहा गया है कि जेडीयू के 25 से 26 विधायक पार्टी छोड़कर आरजेडी में शामिल होने को तैयार होंगे तो दल-बदल कानून के तहत उनकी सदस्यता पर आंच नहीं आएगी।

राजद नेता श्याम रजक के बयान के बाद प्रदेश का सियासी पारा बढ़ गया था। और पार्टी नेताओं ने उनके बयान को बेबुनियाद करार दिया था। वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को आरजेडी नेता श्याम रजक के जदयू के 17 विधायकों के बयान वाली बात को बेबुनियाद बताते हुए इसे सिरे से खारिज कर दिया था। उन्ही के बातों पर मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार में आरजेडी के 5 एमएलसी को तोड़ा था, जिसका बदला बीजेपी ने अरुणाचल में ले लिया। जदयू अब बचने वाली नहीं है। जदयू में टूट होना तय है, पार्टी अपने विधायकों को बचा सकती है तो बचा ले।

अरुणाचल प्रदेश की घटना के बाद सियासी उबाल
आपको बता दें कि बिहार की राजनीति में यह सियासी उबाल हाल ही में अरुणाचल प्रदेश में बीजेपी की ओर से जेडीयू के 7 में से 6 विधायकों को तोड़कर पार्टी में शामिल करने की घटना के बाद से आया हुआ है। इस घटना पर जहां जेडीयू के नेताओं ने नाराजगी जाहिर करते हुए इसे गठबंधन धर्म के खिलाफ करार दिया था। वहीं आरजेडी ने भी जदयू और भाजपा दोनों पर तंज कसा था। आरजेडी ने तो यहां एक ऑफर दिया था कि नीतीश कुमार को हम पीएम उम्मीदवार बनाएंगे। वे तेजस्वी यादव को बिहार का सीएम बनाएं। बिहार विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष और वरिष्ठ आरजेडी नेता उदय नारायण चैधरी ने कहा कि बिहार में महागठबंधन के सीएम पद के उम्मीदवार रहे तेजस्वी प्रसाद यादव को मुख्यमंत्री की कुर्सी सौंप दें। बदले में आरजेडी उन्हें विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद का चेहरा बनाने को तैयार है।

Previous articleइंडियन आर्मी बहालीः फरवरी में होने वाली बहाली में होना चाहते हैं शामिल तो इस प्रमाणपत्र के बिना न हो भर्ती रैली में शामिल, पढ़िए पूरी खबर
Next articleपड़ोसन से गुपचुप मिलने के लिए एक शादीशुदा सख्स ने खोद डाली लंबी सुरंग, काफी दिलचस्प है ये लव स्टोरी