Home करेंट अफेयर्स पीएम मोदी ने की मन की बात, नए कृषि कानूनों को बताया...

पीएम मोदी ने की मन की बात, नए कृषि कानूनों को बताया क्रांतिकारी कदम, कोरोना को लेकर भी बोले ये बड़ी बात

नेशनल डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात में नए कृषि कानून पर भी बात की। उन्होंने कहा कि भारत मे खेती और उससे जुड़ी चीजों के साथ नए आयाम जुड़ रहे है। बीते दिनों हुए कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के द्वार भी खोले हैं। पीएम मोदी ने कहा कि काफी विचार विमर्श के बाद भारत की संसद ने कृषि सुधारों को कानूनी स्वरुप दिया। इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बन्धन समाप्त हुए हैं , बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं और नए अवसर भी मिले हैं। इन अधिकारों ने बहुत ही कम समय में किसानों की परेशानियों को कम करना शुरू कर दिया है।

पीएम मोदी ने कार्यक्रम के दौरान बताया कि कैसे महाराष्ट्र के धुले जिले के किसान जितेन्द्र भोइजी को नए कृषि कानूनों से फायदा हुआ। उन्होंने कहा कि कानून में एक और बहुत बड़ी बात है। इस कानून में ये प्रावधान किया गया है कि क्षेत्र के एसडीएम को एक महीने के भीतर ही किसान की शिकायत का निपटारा करना होगा। अब जब ऐसे कानून की ताकत हमारे किसान भाई के पास थी, तो उनकी समस्या का समाधान तो होना ही था। उन्होंने शिकायत की और चंद ही दिन में उनका बकाया चुका दिया गया।

कोरोना को लेकर पीएम मोदी ने क्या कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मन की बात में हम अलग-अलग भांति-भांति के अनेक विषयों पर बात करते हैं लेकिन एक ऐसी बात को भी साल हो रहा है, जिसका हम कभी खुशी से याद नहीं करना चाहेंगे। करीब-करीब एक साल हो रहे हैं, जब दुनिया को कोरोना के पहले केस के बारे में पता चला था। तब से लेकर अब तक पूरे विश्व में अनेक उतार-चढ़ाव देखे है। लॉकडाउन के दौर से बाहर निकलकर अब वैक्सीन पर चर्चा होने लगी है लेकिन कोरोना को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही अब भी बहुत घातक है। कोरोना के खिलाफ अपनी लड़ाई को मजबूती से जारी रखना है।
उन्होंने कहा कि किसानों में जागरूकता बढ़ाने का ऐसा ही एक काम कर रहे हैं, राजस्थान के बारां जिले में रहने वाले मोहम्मद असलम जी। ये एक किसान उत्पादक संघ के सीईओ भी हैं। जी हां, आपने सही सुना, किसान उत्पादक संघ के सीईओ। उन्होंने कहा कि उम्मीद है बड़ी बड़ी कम्पनियों को ये सुनकर अच्छा लगेगा कि अब देश के दूर दराज वाले इलाको में काम कर रहे किसान संगठनों मे भी सीईओ होने लगे हैं। मोहम्मद असलम जी ने अपने क्षेत्र के अनेकों किसानों को मिलाकर एक व्हाट्सऐप ग्रुप बना लिया है। इस ग्रुप पर वो हर रोज, आस-पास की मंडियो में क्या भाव चल रहा है, इसकी जानकारी किसानों को देते हैं। उन्होंने कहा कि खुद उनका एफपीओ भी किसानों से फसल खरीदता है, इसलिए, उनके इस प्रयास से किसानों को निर्णय लेने में मदद मिलती है।

देवी अन्नपूर्णा की प्रतिमा भारत वापस आ रही है
पीएम मोदी ने कहा कि देवी अन्नपूर्णा की प्रतिमा भारत वापस आ रही है। माता अन्नपूर्णा की प्रतिमा की तरह ही, हमारी विरासत की अनेक अनमोल धरोहरें, अंतर्राष्ट्रीय गिरोंहों का शिकार होती रही हैं। ये गिरोह अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इन्हें, बहुत ऊंची कीमत पर बेचते हैं। अब, इन पर, सख्ती तो लगायी ही जा रही है, इनकी वापसी के लिए, भारत ने अपने प्रयास भी बढ़ायें हैं। मैं कनाडा की सरकार और इस पुण्य कार्य को सम्भव बनाने वाले सभी लोगों का इस सहृदयता के लिये आभार प्रकट करता हूं। माता अन्नपूर्णा का, काशी से उनकी प्रतिमा का, वापस आना, हम सभी के लिए सुखद है।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में भी, बहुत-सी बर्ड वॉचिंग सोसाइटी सक्रिय हैं। आप भी, जरूर, इस विषय के साथ जुड़िए। मेरी भागदौड़ की जिन्दगी में, मुझे भी, पिछले दिनों केवड़िया में पक्षियों के साथ समय बिताने का बहुत ही यादगार अवसर मिला। पक्षियों के साथ बिताया हुआ समय, आपको, प्रकृति से भी जोड़ेगा, और, पर्यावरण के लिए भी प्रेरणा देगा। मेरे प्यारे देशवासियो, भारत की संस्कृति और शास्त्र हमेशा से ही पूरी दुनिया के लिए आकर्षण के केंद्र रहे हैं। उन्होंने कहा कि कई लोग तो इनकी खोज में भारत आए और हमेशा के लिए यहीं के होकर रह गए तो कई लोग वापस अपने देश जाकर, इस संस्कृति के संवाहक बन गए। मुझे “श्रवदंे डंेमजजप” के काम के बारे में जानने का मौका मिला, जिन्हें, ‘विश्वनाथ’ के नाम से भी जाना जाता है। जॉनस ब्राजील में लोगों को वेदांत और गीता सिखाते हैं। वे विश्वविद्या नाम की एक संस्था चलाते हैं, जो रियो डि जेनेरो से घंटें भर की दूरी पर पेट्रोपोलिस के पहाड़ों में स्थित है।

पीएम मोदी ने दी प्रकाश पर्व की बधाई

प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरे प्यारे देशवासियो, कल 30 नवंबर को, हम, श्री गुरु नानक देव जी का 551वां प्रकाश पर्व मनाएंगे। पूरी दुनिया में गुरु नानक देव जी का प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। गुरुग्रन्थ साहिब में कहा गया है “सेवक को सेवा बन आई”, यानी, सेवक का काम, सेवा करना है। बीते कुछ वर्षों में कई अहम पड़ाव आये और एक सेवक के तौर पर हमें बहुत कुछ करने का अवसर मिला। गुरु साहिब ने हमसे सेवा ली।

 

Previous articleअरेराजः डीडीसी ने मनरेगा पीओ को लगाई कड़ी फटकार, आठ पीाआरएस के वेतन पर लगाई रोक
Next articleनीतीश सरकार पर हमलावर हुए तेजस्वी, कहा- अपराधियों की बहार, गोलियों की बौछार और व्यवसायियों पर कहर के साथ महाजंगलराज का हाहाकार