Home क्राइम कटिहार में पीएफआई ने लगाया बाबरी मस्जिद को लेकर विवादित पोस्टर, मचा...

कटिहार में पीएफआई ने लगाया बाबरी मस्जिद को लेकर विवादित पोस्टर, मचा हड़कंप, उप मुख्यमंत्री ने कही यह बात

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
बिहार के कटिहार में बाबरी मस्जिद पोस्टर को लेकर सनसनी मच गई है। वहीं राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है। बता दें कि कटिहार में कलक्ट्रेट समेत विभिन्न जगहों पर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की ओर से कथित रूप से बाबरी मस्जिद पोस्टर लगाये गए हैं। इधर उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि गृह विभाग और जिले के पुलिस अधीक्षक इस मामले को गंभीरता से लिया है। देश में अशांति फैलाने वाले के खिलाफ निश्चित रूप से कार्रवाई होगी। बता दें कि कटिहार जिला प्रशासन में कलक्ट्रेट के गेट समेत अन्य जगहों पर दीवारों और गेट पर बाबरी मस्जिद से जुड़े कुछ विवादास्पद पोस्टर मिलने के बाद हड़कंप की स्थिति मच गई। पोपुलर फ्रंट के नाम से लगाए गए इस पोस्टर में लिखा है कि – एक दिन बाबरी का उदय होगा। छह दिसंबर 1992 कहीं हम भूल न जायें।

पोपुलर फ्रंट नामक संस्था के नाम से पोस्टर में बाबरी मस्जिद का फोटो और हिंदी और उर्दू में लिखा हुआ है। इसमें दिल्ली का पता दिया हुआ है। स्थानीय लोगों ने पोस्टर देखने के बाद इसकी सूचना पुलिस को दी। इस संबंध में एसपी विकास कुमार ने कहा पोस्टर चिपकाने से संबंधित सूचना मिली है। मामले की जांच की जा रही है। मामला विवादास्पद प्रतीत होने पर संबंधित संस्था के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पुलिस अलर्ट है।
आपको बता दें कि आज के ही दिन।छह दिसंबर । 1992 में अयोध्‍या में बाबरी मस्जिद के विवादित ढ़ांचा को गिराया गया था। साल 2020 में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब यहां राम मंदिर का निर्माण किया जा रहा है।

दो दिन पहले दरभंगा और पूर्णिया में पीएफआई के ठिकाने पर ईडी की छापेमारी
आपको बता दें कि दो दिन पहले ग को गुरुवार को दरभंगा और पूर्णिया में एक साथ ईडी ने छापेमारी की। दरभंगा जिले में सिंहवाड़ा थाना क्षेत्र के शंकरपुर गांव में गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम ने पीपुल्स फ्रंट ऑफ इंडिया के बिहार के जनरल सेक्रेटरी मो. सनाउल्लाह के घर पर छापेमारी की। टीम ने विदेशी फंडिंग को लेकर मो. सनाउल्लाह के परिवार के सदस्यों से पूछताछ की। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई है। पूरी कार्रवाई के बारे में टीम के अधिकारियों ने कुछ भी बताने से इनकार किया। डीएम डॉ. त्यागराजन और एसएसपी बाबू राम ने भी इस मामले से अनभिज्ञता जतायी है। सूत्रों के अनुसार, सीएए-एनआरसी के खिलाफ पिछले दिनों किये गए विरोध प्रदर्शन के दौरान विदेशी फंडिंग को लेकर प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने मो. सनाउल्लाह के परिजनों से पूछताछ की। मालूम हो कि प्रखंड के भरवाड़ा खान चैक के पास भी सीएए-एनआरसी के खिलाफ महीनों तक धरना-प्रदर्शन किया गया था।

Previous articleकिसान आंदोलन के समर्थन में भाकपा माले का चक्का जाम, तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग
Next articleअवैध संबंध ने ले ली संजो की जान, प्रेमी ने इस डर से कर दी हत्या, इस कारण रची गई खौफनाक साजिश