टेक्नोटेक डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क

अब सोशल मीडिया एप का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को अपना वेरिफिकेशन कराना पड़ सकता है। सरकार इसके लिए ससंद के मौजूदा सत्र में नया विधेयक पेश कर सकती है। इस बिल के पास होने पर व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, टिकटॉक जैसे एप का इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स को पहले वेरिफिकेशन कराना होगा। सरकार यह विधेयक इसलिए लेकर आएगी, ताकि फर्जी खबरों (फेक न्यूज) के प्रसार पर लगाम लग सके। इसके लिए इन कंपनियों को अपने यहां पर एक ऐसा मैकेनिज्म तैयार करना पड़ेगा। वहीं इस वेरिफिकेशन को कंपनियों को पब्लिक में दिखाना भी पड़ेगा, जैसा ट्विटर में होता है।

इनसे होगा वेरिफिकेशन
रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक यूजर्स को अपनी केवाईसी करानी होगी। इसके लिए वो पैन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड या फिर पासपोर्ट जैसे सरकारी डॉक्यूमेंट दे सकेंगे। इससे सोशल मीडिया पर चल रहे फर्जी अकाउंट को हटाने में और उनकी जानकारी मिलने में सरकार को मदद मिलेगी।
इंडिया स्पैंड के अनुसार फेक न्यूज के चलते 2017 से लेकर के 2018 तक 30 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं व्हाट्सएप ने इसका प्रसार रोकने के लिए मैसेज फॉरवर्ड करने की अधिकतम सीमा को पांच किया था। वहीं फेसबुक और अन्य कंपनियां ने इसका विरोध किया था, क्योंकि कई लोगों के पास वेरिफिकेशन देने के लिए कोई डॉक्यूमेंट नहीं होता है।

कैबिनेट ने पास किया था निजी डाटा संरक्षण बिल
निजी डाटा चुराने पर अब कंपनी के जिम्मेदार अधिकारियों को तीन साल की जेल भी हो सकती है और कंपनी को 15 करोड़ रुपये तक या उसके वैश्विक टर्नओवर का चार फीसदी जुर्माना भी देना पड़ सकता है। कैबिनेट से निजी डाटा संरक्षण विधेयक, 2019 को मंजूरी मिलने के बाद अधिकारियों ने बताया कि इस विधेयक में निजी डाटा की चोरी करने या फिर उसका बेजा इस्तेमाल करने पर रोक लगाने के कई प्रावधान किए गए हैं।
अब सरकार संसद में चल रहे शीतकालीन सत्र में इसके लिए विधेयक पेश करेगी। सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि इस बिल की चर्चा पहले संसद में की जाएगी। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने विधेयक को कैबिनेट और दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के पास भेज दिया है। इस विधेयक के मुताबिक, कोई भी निजी या सरकारी संस्था किसी व्यक्ति के डाटा का उसकी अनुमति के बिना इस्तेमाल नहीं कर सकती। चिकित्सा आपातकाल और राज्य या केंद्र की लाभकारी योजनाओं के लिए ऐसा किया जा सकता है। किसी भी व्यक्ति को उसके डाटा के संबंध में अहम अधिकार होंगे। संबंधित व्यक्ति अपने डाटा में सुधार या फिर संस्था के पास मौजूद अपने डाटा तक पहुंच की मांग कर सकता है। हालांकि सरकार वेरिफिकेशन को जरूरी न करके इसको ऑप्शनल कर सकती है।

ताजा खबरें

बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा, 1555 नए पोजिटिव केस, पूर्वी चंपारण में 73 नये मामले

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क बिहार में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. बिहार में शनिवार ...
Read More

विपक्ष के भारी हंगामे व नारेबाजी के बीच राज्य सभा में पास हुए कृषि संबंधी दो विधेयक, बीजेपी अध्यक्ष नड्डा ने कही ये बात

नेशनल डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क विपक्ष के भारी हंगामे व नारेबाजी के बीच राज्य सभा में कृषि संबंधी दो ...
Read More

अभिनेत्री पायल घोष ने बड़बोले फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर लगाया यौन शोषण का आरोप

मनोरंजन डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क अभिनेत्री पायल घोष ने बड़बोले फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर यौन शोषण का आरोप ...
Read More

ब्रेकिंगः कोरोना ने तुरकौलिया के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की ली जान, मिले 65 नए पोजिटिव

मोतिहारी। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क पूर्वी चंपारण में कोरोना से मरने वालों का सिलसिला जारी है। कोरोना ने तुरकौलिया के ...
Read More