मनी डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
अब पीपीएफ, एफडी व शेयर बाजार से इतर लोग सिस्टमेटिक इंवेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के तहत म्यूचुअल फंड में पैसे लगा रहे हैं। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड इन इंडिया (एम्फी) के अनुसार, चालू वित्त वर्ष में अभी तक निवेशकों ने 9.39 लाख एसआईपी खाते हर महीने खुलवाए हैं।

इन पांच महीनों (अप्रैल-अगस्त) में एसआईपी से कुल निवेश 41,098 करोड़ रुपये का हो गया है, जो एक साल पहले की समान अवधि में 36,760 करोड़ था। एम्फी का कहना है कि अगस्त से लेकर पिछले 12 महीनों के दौरान हर महीने एसआईपी में औसतन 8,000 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। पिछले कुछ वर्षों से एसआईपी में निवेश लगातार बढ़ रहा है। 2018-19 में जहां एसआईपी के जरिये 92,700 करोड़ का निवेश हुआ, वहीं 2017-18 में 67,000 करोड़ और 2016-17 में 43,900 करोड़ का निवेश हुआ था। अभी एसआईपी में कुल 2.81 करोड़ खाते हैं।

500 रुपये में शुरू कर सकते निवेश
एसआईपी में निवेश के लिए न्यूनतम 500 रुपये से शुरुआत की जा सकती है। इसमें आप जब चाहें अपनी सुविधानुसार निवेश की राशि बढ़ा सकते हैं। एसआईपी में अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। चूंकि, यह आपको हर महीने भुगतान का विकल्प देता है, जिससे आप पर बोझ नहीं पड़ता है। इसकी किस्त सीधे आपके बैंक खाते से कट जाती है, जिससे आपको तारीख याद रखने की मशक्कत नहीं करनी पड़ती है। इस राशि पर कंपाउंडिंग रिटर्न मिलता है, जिससे एक छोटी रकम भी कुछ समय बाद बड़ी राशि में बदल जाती है।

जब चाहें निकाल सकते हैं पैसा
एफडी या अन्य पारंपरिक निवेश के विकल्पों में परिपक्वता अवधि पर ही अपना पैसा निकाल सकते हैं, लेकिन एसआईपी में निवेशक जब चाहे अपनी बचत में से पैसे निकाल सकता है। इसका एसआईपी पर कोई असर नहीं पड़ेगा और वह चलती रहेगी। इसके अलावा निवेशक एसआईपी को जब तक चाहे चला सकता है, इसकी कोई समय-सीमा निर्धारित नहीं होती है। हालांकि, वह जब चाहे इसे बंद भी कर सकता है, इसके लिए किसी जुर्माने या शुल्क का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। इसके अलावा जब निवेश जब चाहे अपनी स्टेटमेंट और निवेश का मूल्य जान सकता है।

ये हैं सबसे पसंदीदा एसआईपी म्यूचुअल फंड
चालू वित्त वर्ष के शुरुआती पांच महीनों में म्यूचुअल फंडों ने जिन पांच शेयरों पर सबसे ज्यादा भरोसा जताया है, उनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज टॉप पर है। इसमें कुल इस दौरान कुल 6,260 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। इसके बाद एचडीएफसी में 1,890 करोड़ रुपये डाले गए हैं, जबकि एचडीएफसी बैंक में 1,660 करोड़ का निवेश हुआ है। चैथे नंबर पर टीसीएस है, जिसमें निवेशकों ने पांच महीने में 1,190 करोड़ रुपये डाले हैं। अवेन्यू सुपरमार्ट पर भी निवेशकों का भरोसा बढ़ा है और इसमें कुल 970 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है।

ताजा खबरें

बिहार की स्नातक छात्राओं को मिलेंगे 25-25 हजार, सरकार ने 65 करोड़ रुपये की दी स्वीकृति

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क वित्तीय वर्ष 2019-20 में मुख्यमंत्री बालिका (स्नातक) प्रोत्साहन योजना के लिए 65 करोड़ रुपये ...
Read More

बिहार कैबिनेट की बैठकः उपमुखिया व पंसस पर मेहरबान हुई बिहार सरकार, बैठक में 20 एजेंडों पर लगी मुहर

बिहार डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क बिहार सरकार उपमुखिया और पंचायत समिति के सदस्यों पर मेहरबान हो गई है। नीतीश ...
Read More

मोतिहारी के वरिष्ठ चिकित्सक डा.डी.नाथ को बेहतरीन सेवा के लिए किया गया सम्मानित

मोतिहारी। अशोक वर्मा पूर्वी चम्पारण जिले के वरिष्ठ चिकित्सक डॉक्टर डी०नाथ को उनके एकेडमिक कॅरियर व सोसायटी में बेहतरीन सेवा ...
Read More

केंद्र सरकार की इस योजना में शानदार फायदे, हर माह इतनी मिलेगी पेंशन

नेशनल डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क केंद्र सरकार की कई जनकल्याणकारी योजनाएं चल रही हैं, इनमें वय वंदन योजना भी ...
Read More