Home न्यूज कोई संशय नहीं, 15 जनवरी को ही मनेगी मकर संक्रांति

कोई संशय नहीं, 15 जनवरी को ही मनेगी मकर संक्रांति

मोतिहारी। शैलेन्द्र तिवारी
15 जनवरी 2022 शनिवार को मकर संक्रांति का पवित्र पर्व मनाया जाएगा । प्रत्येक माह में सूर्य एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं जिसे संक्रमण काल (संक्रांति) कहते हैं , 14 जनवरी को रात्री 08 बजकर 34 मिनट के बाद भगवान भास्कर मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं इसलिए ष्पर दिने पुण्यकालरू ष् दूसरे दिन मध्याह्न तक पुण्यकाल है ।

मकर संक्रांति के महत्व पर प्रकाश डालते है तो इस दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाते हैं । देवताओं का दिन और दैत्यों की रात्रि का आरंभ हो जाता है। महाभारत काल में भी ‘मकर संक्रांति’ का महत्व बताया गया है कि !बाण शय्या पर पड़े गंगा पुत्र भिष्म पितामह ने इक्षा मृत्यु का वरदान पाकर भी 58दिन तक सूर्य के उत्तरायण होने का इंतजार किये थे अर्थात मान्यता है कि उत्तरायण में यदि मृत्यु हो तो पुनर्जन्म से मानव मुक्त हो जाता है यानी ‘मोक्ष’ प्राप्ति हो जाती है ।

मकर संक्रांति के दिन तिल,लाई, खिचड़ी खाने और खिलाने का विषेश महत्त्व है , क्योंकि मकर राशि के स्वामी शनि होते हैं और सूर्य शनि के विरोधी ग्रह हैं तथा ग्रहों क परस्पर संतुलन कैसे अनुकूल हो ,जिससे सूर्य का मकर संक्रांति में संक्रमण मानव जीवन के लिए लाभकारी होना सुनिश्चित किया जा सके । अतः शनि देव एवं सूर्य देव के परस्पर शत्रुता के निवारण हेतु मकर संक्रांति के दिन स्नान दान ,तिल, भुजा लाई, खिचड़ी खाने और दान करने का विषेश महत्व है, शनि देव को प्रसन्न करने हेतु जुता, कंबल ,उरद,तिल पंचांग (पत्रा)का दान करना उत्तम है।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी शरद ऋतु में तिल, गुड़, भुजा खाने से ठंड का प्रभाव कम होता है। सम्प्रति कोरोना महामारी में तिल का सेवन विशेष लाभकारी होगा । सनातन धर्म में जो भी पर्व त्योहार है वह मानवीय मूल्यों को बनाए रखने में सहायक होता है ।

मकर संक्रांति पर्व के शुभ अवसर पर सभी सहृदयी, शुभेच्छु, यजमान , शिष्यों एवं आदरणीय, पूज्यनीय जनों को बहुत बहुत बधाई शुभकामनाएं । भगवान भास्कर आप सभी को अपनी उर्जा से परिपूर्ण करें ।

Previous articleब्रेकिंग: तुरकौलिया में पड़ोसी को शराब कांड में फंसाने के चक्कर में गया जेल, ओपी प्रभारी को दी थी यह धमकी
Next articleगुवाहाटी-बीकानेर एक्सप्रेस आज शाम डोमोहानी (पश्चिम बंगाल) के पास पटरी से उतरी