Home न्यूज चांद पर जमीनः बिहार के इस लाल के काम से अमेरिकी कंपनी...

चांद पर जमीनः बिहार के इस लाल के काम से अमेरिकी कंपनी हुई इतनी खुश कि तोहफे में दे दी चांद पर जमीन

इफ्तेखार रहमानी दरभंगा जिला मुख्यालय से दूर बहेड़ा के रहने वाले हैं और फिलहाल नोएडा में रह रहे हैं। उन्होंने एक वीडियो जारी कर इस बात की पुष्टि की है कि उनकी कंपनी ने उन्हें चांद पर जमीन गिफ्ट की है।

नेशनल डेस्क। यूूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
बिहार में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। समय-समय पर ऐसी प्रतिभाएं चर्चा में आ जाती है। इन्हीं प्रतिभा में से एक है दरभंगा के इफ्तेखार रहमानी, जिन्हें चांद पर जमीन का मालिकाना हक मिल गया है। बता दें कि देश में कई ऐसी बड़ी हस्तियां हैं, जिन्होंने चांद पर जमीन खरीदी है और इसकी वजह से वे लोग चर्चा में भी रहे। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने भी चांद पर जमीन खरीदी थी। सुशांत के बाद बिहार के ही रहने वाले ही इफ्तेखार रहमानी को भी चांद पर जमीन का मालिकाना हक मिला है। दरअसल, इफ्तेखार के काम से उनकी कंपनी इतनी खुश हो गई कि उसने तोहफे के तौर पर चांद पर एक एकड़ जमीन उनके नाम कर दी।

इफ्तेखार रहमानी दरभंगा जिला मुख्यालय से दूर बहेड़ा के रहने वाले हैं और फिलहाल नोएडा में रह रहे हैं। उन्होंने एक वीडियो जारी कर इस बात की पुष्टि की है कि उनकी कंपनी ने उन्हें चांद पर जमीन गिफ्ट की है। उन्होंने बताया कि चांद पर जमीन मिलने के बाद वह भी एक तरह से सेलिब्रिटी की सूची में आ गए हैं।

बता दें, रहमानी पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। वह अपनी निजी कंपनी चलाने के साथ ही एक अमेरिकी कंपनी के लिए भी काम करते हैं। रहमानी की अपनी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंपनी का नाम एआर स्टूडियोज है। वहीं, जिस अमेरिकन कंपनी के लिए वह काम करते हैं उसका नाम लूना सोसाइटी इंटरनेशनल है। यह कंपनी चांद पर जमीन की खरीद व बिक्री का काम करती है।

इफ्तेखार ने कंपनी के एक सॉफ्टवेयर में नए सिरे से कुछ फेरबदल कर उसे अपडेट कर दिया, जिससे अमेरिकी कंपनी को काफी फायदा हुआ। इसके बाद कंपनी उनके काम से बेहद खुश हो गई और उन्हें चांद पर एक एकड़ जमीन बतौर गिफ्ट दे दिया। यह खबर जब इफ्तेखार रहमानी के गांव बहेड़ा तक पहुंची तो गांव वालों और रिश्तेदारों की खुशी का ठिकाना न रहा। सभी एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशी मना रहे हैं। इफ्तेखार के घर पर फोन के जरिये बधाई देने वालों की बाढ़ सी आ गई है। उनकी इस कामयाबी पर सभी गर्व महसूस कर रहे हैं।

इस खुशी से फूली न समाई इफ्तेखार की मां नासरा बेगम ने कहा कि अपने बेटे की कामयाबी पर वह बेहद खुश हैं। उनका बेटा देश दुनिया में नाम कमा रहा है। ऊपर वाला उसे और कामयाब करे। वहीं, इफ्तेखार के चाचा मोहम्मद रौशन का कहना है कि उनका भतीजा पढ़ने में काफी तेज था। उसने बहेड़ा से ही प्रारंभिक शिक्षा हासिल की और उसके बाद राजस्थान के उदयपुर से बीटेक की पढ़ाई की।