Home न्यूज भारत- नेपाल सीमावर्ती क्षेत्रों में नेपाल से सम्बद्ध ब्रहमाकुमारीज सेवा केंद्रों का...

भारत- नेपाल सीमावर्ती क्षेत्रों में नेपाल से सम्बद्ध ब्रहमाकुमारीज सेवा केंद्रों का विस्तार

मोतिहारीे। अशोक वर्मा
ईश्वरीय मिशन पर लगी नेपाल जोन की ब्रह्माकुमारी बहनें अपने सेवा कार्यों की बदौलत दिनोंदिन भारत नेपाल के सीमावर्ती नगर पंचायत एवं महत्वपूर्ण जगहांे पर बीके पाठशाला एवं सेवा केंद्रों का विस्तार कर रही हैं। क्षेत्र की जनता का अपार समर्थन भी इन्हें मिल रहा है। जैसे- जैसे दुनिया अशांत हो रही है और डिप्रेशन ,तनाव ,गुस्सा एवं विभिन्न रोगों के साथ- साथ अन्य समस्याओं से लोग ग्रसित हो रहे हैं वैसे- वैसे लोगों का झुकाव ब्रह्माकुमारी सेवा केंद्र की ओर तेजी से हो रहा है।

कोरोना काल के दो वर्षाे के अंदर दुनिया के हालात में जो परिवर्तन हुए , आम लोगों का झुकाव ब्रहमाकुमारी सेवा केंद्रो की ओर तेजी से हुआ। ऑनलाइन सात दिवसीय कोर्स भी लाखों लोगों ने पूरा किया। करोना काल में संस्था का जितना विकास हुआ वह पहले कभी नहीं हुआ । वैसे पूर्वी चंपारण जिले में मुजफ्फरपुर सब जोन से जुड़े लगभग एक दर्जन सेवा केंद्र एवं दर्जनों बी के पाठशाला ईश्वरीय मिशन के कार्य में बढ़-चढ़कर अपनी सेवा दे रहे हैं। दूसरी ओर नेपाल से जुड़े सेवा केंद्रों का विस्तार सीमावर्ती क्षेत्रों में तेजी से हो रहा है। बीरगंज से सटे रक्सौल में संस्था ने जमीन खरीदकर अपना भवन भी बनाया है । घोड़ासहन, रक्सौल ,आदापुर ,छोड़ादानो, बैरगनिया ,भेलवा,शिवहर आदि क्षेत्रों में नेपाल से जुड़े सेवा केंद्रों का फैलाव तेजी से हो रहा है। अपने अनुशासित सेवा कार्यों के बदौलत ब्रह्माकुमारी संस्था के प्रति आम लोगों में काफी आदर भाव है ।अभी यह संस्था दर्जनो विश्वविद्यालय से संबद्ध होकर शिक्षा के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रही है।1936 में स्थापित यह संस्था अब वटवृक्ष का रूप ले चुकी है तथा विश्व के 140 देशों में मूल्यों को पुनर्स्थापित करने का कार्य कर रही है। संस्था के कार्य से प्रभावित होकर वर्तमान केंद्र सरकार एवं लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वर्णिम भारत अमृत महोत्सव कार्यक्रम में इस संस्था को जोड़ा । अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि इस संस्था पर अधिकार है और यह संस्था भारत को स्वर्णिम बनाने की दिशा में विगत 86 वर्षों से कार्य कर रही है, इसलिए हम चाहेंगे कि संस्था का पूरा योगदान स्वर्णिम भारत अमृत महोत्सव कार्यक्रम में रहे ।संस्था के द्वारा इस प्रस्ताव को स्वीकार किया गया । संस्था पूरे देश में यह कार्यक्रम चला रही है। नेपाल में भी यह संस्था काफी सक्रिय है और नई दुनिया निर्माण के कार्य में संस्था के समर्पित भाई बहन जुड़े हुए है।

Previous articleमोतिहारी के एडीएम शशि शेखर चौधरी को जमुई का डीडीसी बनाया गया, 17 जिलों में अब नए उप विकास आयुक्त, देखें लिस्ट
Next articleचकिया में ज्वेलर्स दुकान में हुई लूटपाट व गोलीबारी के खिलाफ भड़का आक्रोश, दुकानें बंद कर सड़क पर उतरे लोग