Home न्यूज एआईएमआईएम नेता अकबुरुद्दीन ओवैसी का जगा औरंगजेब प्रेम, हुआ नया विवाद

एआईएमआईएम नेता अकबुरुद्दीन ओवैसी का जगा औरंगजेब प्रेम, हुआ नया विवाद

नेशनल डेस्क। यूथ मुकाम न्यूज नेटवर्क
एआईएमआईएम नेता अकबुरुद्दीन ओवैसी का औरंगजेब प्रेम जग गया है। उन्होंने औरंगजेब की कब्र की यात्रा कर नया विवाद पैदा कर दिया है। भाजपा और शिवसेना ने इस पर आपत्ति जताई है। यह कब्र महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के खुल्दाबाद में है।

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम व भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी ने औरंगजेब का महिमामंडन कर देश के राष्ट्रवादी मुस्लिमों का अपमान किया है। मुगल शासक औरंगजेब कभी देश का आदर्श नहीं हो सकता। उसने संभाजीराजे की हत्या के पहले उन्हें यातनाएं दी थीं। भाजपा नेता फडणवीस ने यह भी कहा कि हम औरंगजेब के महिमामंडन को किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं करेंगे। जो लोग ऐसा करने का प्रयास कर रहे हैं, उन पर कार्रवाई होना हिए।

महाराष्ट्र को चुनौती: राउत
उधर, शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी ओवैसी द्वारा औरंगजेब की मजार पर नमाज पढ़ने पर आपत्ति जताई है। राउत ने कहा कि मुगल शासक ने छत्रपति शिवाजी महाराज के खिलाफ और उनकी मृत्यु के बाद 25 साल तक मराठों के साथ लड़ाई लड़ी। शिवसेना नेता ने कहा कि औरंगजेब की कब्र पर नमाज पढ़कर अकबरुद्दीन और असदुद्दीन ओवैसी ने महाराष्ट्र को चुनौती दी है। ओवैसी बंधु महाराष्ट्र का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं, हम इस चुनौती को स्वीकार करते हैं। हमने इसी मिट्टी में औरंगजेब को दफनाया है। उसके अनुयायी, जो राजनीति करना चाहते हैं, उसका भी महाराष्ट्र में यही हाल होगा।

अलग अर्थ निकाल रहे: एआईएमआईएम
इस बीच, एआईएमआईएम के सांसद इम्तियाज जलील ने कहा है कि ओवैसी की मजार यात्रा का अलग अर्थ निकालने की जरूरत नहीं है। जो भी खुल्दाबाद जाता है, वह औरंगजेब की मजार पर जाता है।

कांग्रेस ने पूछा भादंवि की किस धारा में जुर्म है यह?
उधर, महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि भाजपा से पूछा है कि भारतीय दंड विधान की किस धारा में यह लिखा है कि मजार पर जाने वाले पर कार्रवाई की जा सकती है? क्या भाजपा ने जिन्ना की मजार पर जाने के कारण वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी पर कार्रवाई की थी? शिवाजी महाराज ने अफजल खान को मारने के बाद उसकी कब्र बनवाई थी, यह महाराष्ट्र की संस्कृति है।

नवनीत राणा के फोटो लेने पर कोई कार्रवाई नहीं की
पूर्व सीएम फडणवीस ने मुंबई के लीलावती अस्पताल में एमआरआई जांच के दौरान सांसद नवनीत राणा की तस्वीरें लिए जाने के मामले का जिक्र करते हुए कहा कि राज्य सरकार को तत्काल कार्रवाई करना थी, लेकिन कोई कदम नहीं उठाया गया।

Previous articleमुख्य सचिव ने वीसी के माध्यम से की पीएम आवास समेत अन्य योजनाओं की समीक्षा, दिये ये निर्देश
Next articleगेहूं की बढ़ती कीमतों के बीच केन्द्र सरकार ने इसके निर्यात पर तत्काल प्रभाव से लगाई रोक