Home न्यूज संविधान दिवस पर 25 बिहार बटालियन एनसीसी ने निकाली रैली, मानव श्रृंखला...

संविधान दिवस पर 25 बिहार बटालियन एनसीसी ने निकाली रैली, मानव श्रृंखला बना संविधान के महत्व को बताया

मोतिहारी। अशोक वर्मा
भारतीय संविधान दिवस के उपलक्ष्य में 25बिहार बटालियन एन.सी.सी. के कैडेटों द्वारा एक विशाल रैली निकाली गई।यह रैली राजाबाजार स्थित बटालियन कार्यालय से चल कर लोकतंत्र के तीन प्रतीकों में से कार्यपालिका के प्रतीक स्वरूप जिलाधिकारी कार्यालय, एस. पी.कार्यालय और न्यायपालिका से संदर्भित कचहरी तक गई और वहां कुल ढाई सौ कैडेटों ने विशाल मानव श्रृंखला का निर्माण कर संविधान के महत्व पर आपस में विचार विमर्श किया। रैली में अच्छी संख्या में छात्रा कैडेटों की भी उपस्थिति रही।

कैडेट झंडा, बैनर,संविधान की प्रस्तावना का लिपिबद्ध पोस्टर लेकर चल रहे थे।रैली में कैडेटष्हमारा संविधान,सबको सम्मानष्का गगनभेदी नारे लगाते हुए चल रहे थे।गांधी मैदान पहुंच कर बटालियन के एडम अफसर लेफ्टिनेंट कर्नल सुधांशु दीक्षित ने कैडेटों को संबोधित करते हुए भारत के संविधान पर वृहत्तर रूप में प्रकाश डालते हुए कहा कि हमारे संविधान में जाति और मजहब से ऊपर उठ कर सबों के हित और उत्थान की बातें कही गई हैं। हमें हर हाल में संविधान के दायरे में रहने का संकल्प लेना है और इसके मूल स्वरूप की रक्षा करनी है।
इस रैली का नेतृत्व एडम अफसर कर्नल सुधांशु दीक्षित और सूबेदार मेजर बी.एन.प्रसाद ने किया।इस अवसर पर सूबेदार हीरा बहादुर गुरुंग, नायब सूबेदार दुर्गा सिंह,बी. एच.एम.तिलक बहादुर,हवलदार प्रकाश मगर, ह.बीरबहादुर गुरुंग, ह.जस बहादुर थापा, ह.शरद गुरुंग और जितेंद्र कुमार अनल मौजूद रहे।
रैली में शामिल कैडेटों की देखरेख में ए.एन. ओ.संजय कुमार विश्वकर्मा,अनिल कुमार और उमेश कुमार तत्पर दिखे।आज की इस शानदार रैली में एम. एस.कॉलेज,एल.एन. डी.कॉलेज,श्री कृष्ण महिला महाविद्यालय, एस.एन. एस.कॉलेज,जिला स्कूल,गोपाल साह विद्यालय और एम. जे.के.गर्ल्स इंटर कॉलेज के छात्र छात्राओं की जोरदार भागीदारी रही।संविधान के प्रति जागरूकता को लेकर आने वाले दिनों में एक मोटरबाइक रैली की भी योजना प्रस्तावित है।यह जानकारी प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कैप्टन अरुण कुमार ने दी है।

 

Previous articleकेविके की नई पहल, अब रजनीगन्धा की खुशबू से गुलजार होगी चम्पारण की फिजां
Next articleअब अगले साल मार्च में होगा 37वां दलित साहित्यकार सम्मेलन, कोरोना के कारण आयोजन टला